Essay On 20-20 Cricket

An overview of 2009 ICC World Twenty20 cricket tournament
ICC stands for International Cricket Council and it is the governing body for cricket. Traditionally, the ICC has overseen the development of Test cricket (5-day matches) and One-day cricket. However, since 2003, a new shorter form of cricket has gripped the world, called Twenty20 cricket. Twenty20 is fast and furious, with the emphasis placed firmly on big hitting, colour and razzmatazz. Its introduction has divided the cricket world but its advocates feel that its introduction was vital to lure new fans to the sport To capitalise upon the growing popularity of Twenty20, the ICC decided to introduce a Twenty20 World Cup in 2007. The inaugral tournament was held in South Africa in 2007 and was won by India who beat fierce rivals Pakistan by just five runs in a thrilling final. This whetted the appetite nicely for the follow up tournament, which was scheduled for 2009 in England. Let's look then at the details surrounding the 2009 tournament.
Participating nations:
There were twelve participating nations. Nine of these nations qualified automatically and these were the nations with Test-paying status, namely England, Australia, New Zealand, South Africa, West Indies,India, Pakistan, Sri Lanka, and Bangladesh. These nations were joined by three qualifiers who came through a qualifying tournament that was staged in the United Arab Emerites. The successful qualifiers were Ireland, Scotland, and the Netherlands.
Semi Finals:
The semi finals saw South Africa drawn against Pakistan, and Sri Lanka drawn against the West Indies. South Africa had largely assumed the mantle of favourites and were widely expected to brush aside a hitherto somewhat inconsistent Pakistan team. Pakistan have plenty of flair and passion in their team and were, of course, runners up in 2007. They should not have been taken lightly therefore and, indeed, managed to draw upon inspiration to secure a seven run win.
The second semi final...

Show More

ट्वेन्टी-20 क्रिकेट पर निबंध Essay On T20 Cricket In Hindi Language

क्रिकेट दुनिया का सर्वाधिक लोकप्रिय खेल बन चुका है | दर्शकों की क्रिकेट के प्रति दीवानगी देखते ही बनती है | वैसे तो इसके सभी प्रारूप लोकप्रिय हैं, किन्तु अत्यधिक रोमांच एवं कम समयावधि के कारण अब बीस-बीस ओवरों तक सीमित क्रिकेट सर्वाधिक लोकप्रिय हो गया है इसे ट्वेन्टी-20 क्रिकेट की संज्ञा दी जाती है | क्रिकेट के इस प्रारूप की शुरुआत इंग्लैंड में 2003 ई. में हुई | टेस्ट एंव एकदिवसीय क्रिकेट मैचों में अत्यधिक समय लगता है एंव कभी-कभी खेल में रोमांच भी नहीं रहता, इसलिए कम समय में मैच को समाप्त कर बेहतर मनोरंजन एंव खेल के रोमांच को बढ़ाने के उद्देश्य से ट्वेंटी-20 क्रिकेट मैचों की शुरुआत हुई |

भारत ने अपना पहला ट्वेन्टी-20 मैच 1 दिसंबर 2006 को जोहांसबर्ग में दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध खेला था, जिसमें यह 6 विकेट से विजयी रहा था | दक्षिण अफ्रीका में ही सितंबर 2007 में आयोजित प्रथम ट्वेन्टी-20 क्रिकेट विश्वकप में भी भारत विजेता रहा था | ट्वेन्टी-20 क्रिकेट विश्वकप का आयोजन प्रत्येक दो वर्ष के पश्चात किया जाता है | क्रिकेट के इस प्रारूप सम्बन्धी नियमों को बनाकर उन्हें लागू करने की जिम्मेदारी अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आई.सी.सी.) निभाता है | इसका मुख्यालय दुबई में है | यह अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर खेले जाने वाले पुरुष एवं महिला क्रिकेट दोनों का नियन्त्रण करता है |

ट्वेन्टी-20 क्रिकेट को लोकप्रिय बनाने में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बी.सी.सी.आई.) द्वारा आयोजित इंडियन प्रीमियर लीग (आई.पी.एल.) का योगदान महत्त्वपूर्ण रहा है | पहला आई.पी.एल. टूर्नामेंट 2008 में खेला गया | आई.पी.एल. में दुनिया भर के क्रिकेट खिलाड़ियों के साथ अनुबंध किया जाता है | इसमें कम चर्चित तथा युवा खिलाड़ियों को भी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिल जाता है | क्रिकेट के इस प्रारूप से जहां इसके रोमांच में वृद्धि हुई है, वही इसने खेलों के व्यवसायीकरण को भी बढ़ावा दिया है | उद्योगपति एंव फ़िल्मी सितारे इसमें ऊंची बोली लगाकर टीमों एंव खिलाड़ियों को खरीदते हैं | खेल के इस व्यवसायीकरण के कारण क्रिकेट में भ्रष्टाचार को भी बढ़ावा मिलता है एंव खेल-भावना को काफी छति पहुंची है | लोग इसे अब धन कमाने का जरिया समझने लगे हैं | इससे सट्टेबाजी एवं मैच फिक्सिंग को भी बढ़ावा मिला है |

ओवरों की संख्या एवं कुछ अन्य बातों को छोड़ दिया जाए, तो इसे खेलने का तरीका अन्य क्रिकेट प्रारूप से भिन्न नहीं है | एक ट्वेन्टी-20 क्रिकेट मुकाबले में 11 खिलाड़ियों के दो दल शामिल होते हैं | दोनों ही दलों के कप्तान पहले टॉस करते हैं फिर टॉस जीतने वाले कप्तान की इच्छा के अनुसार क्रमवार बालिंग और बैटिंग का चयन करते हैं |

टॉस में विजयी कप्तान यदि बैटिंग का चयन करता है, तो पराजित कप्तान के दिल को फील्डिंग करनी होती है | ट्वेन्टी-20 मैचों में ओवर-दर-ओवर मैच के रोमांच में वृद्धि होती जाती है और दर्शक वर्ग चर्मोत्कर्ष में उछल-उछल जाते हैं | बल्लेबाजी के दौरान बल्लेबाज सुरक्षा दृष्टिकोण से हेलमेट भी धारण करते हैं क्योंकि गेंदबाजों की विविधता भरी गेंदबाजी से चोट लगने की प्रबल आशंका रहती है | एक दल द्वारा निर्धारित ओवरों के दौरान बनाए रन ही विपक्षी दल का लक्ष्य होते हैं और कुल रनों से ज्यादा रन विजयी होने के लिए बनाने होते हैं | मैच के दौरान दोनों ही दलों द्वारा भरपूर प्रयास किए जाते हैं | बल्लेबाजी करने वाला दल अधिकाधिक रन बटोरने को प्रयासरत रहता है, तो गेंदबाजी करने वाला दल रन-गति को रोकने के लिए भरपूर प्रयास करता है | इस प्रकार से दोनों दलों के मध्य की यह मशक्कत ही इस खेल में रोमांच पैदा करती है | बल्लेबाज जहां अपना सर्वश्रेष्ठ रन देने को कटिबद्ध होता है वहीं गेंदबाज भी रन-गति को नियंत्रित करने का हर संभव प्रयास करता है |

खेल के दौरान जहाँ बल्लेबाज रन-गति पर निरंतर निगाह रखते हैं, वहीं गेंदबाज और विपक्षी दल का कप्तान भी निरंतर रन-गति को नियंत्रित करने के लिए उपयुक्त फील्ड-सैटिंग को प्रयासरत रहते हैं | मैच के दौरान अंपायर की भी प्रमुख भूमिका होती है | वह विभिन्न संकेतों के द्वारा आउट होने, चौके-छक्के और थर्ड अम्पायर द्वारा निर्णय लिए जाने के बारे में बताता है | अम्पायर का कोई भी निर्णय निर्विवाद रूप से मान्य होता है | मैदान पर मौजूद दोनों टीमों के खिलाड़ी अम्पायर के निर्णय को मानने को बाध्य होते हैं | पहले बल्लेबाजी करने वाला दल पारी समाप्त होने पर विपक्षी दल के लिए लक्ष्य रख देता है | तदुपरांत दूसरी पारी में विपक्षी दल उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रयास करता है | यदि विपक्षी दल के सभी सदस्य लक्ष्य की बराबरी कर आउट हो जाते हैं तो वह मैच ‘ड्रा’ या ‘टाई’ मान लिया जाता है | वर्तमान में महेंद्र सिंह धोनी भारतीय ट्वेन्टी-20 क्रिकेट टीम के कप्तान हैं |

ट्वेन्टी-20 क्रिकेट में दोनों दल एक-दूसरे पर लगातार हावी रहने की कोशिश करते हैं | यद्यपि इससे मैच के दौरान आक्रमकता में भी वृद्धि हुई, फिर भी मनोरंजन एंव रोमांच की दृष्टि से ट्वेन्टी-20 क्रिकेट मैच का कोई अन्य विकल्प नहीं है | इसने क्रिकेट की लोकप्रियता में अविश्वसनीय वृद्धि की है |

0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *